कुडू2 घंटे पहले

  • लिंक लिंक

ग्लैंड के कुडू प्रखंड क्षेत्र में प्रदूषित पानी के पानी के देवनद थिमोदर ग्लोबल साइट पर गुरुवर को गंगा दशहरा पर मौसम के अनुकूल होते हैं। युगायुगामी भारती, थियोदर बचाओ आंदोलन, देवेंद्र-दामोदर क्षेत्र विकास और सरकार का स्वरूप, कला विज्ञान रचना रूप से इस कार्यक्रम में सोमदर बचाओ शाखा के प्रस्ताव और जमशेदपुर के सदस्य मूल रूप से शामिल हैं ।।।

अमहृदय में देवद-दामोदर नद प्रदूषण समीक्षा मिशन मिशन गंगा दशहरा पर मिथोदर के उद्गम स्थल, चूलिथ जल में पूजा-चैंच नें। महोतth -kasak के अनेक अनेक अनेक जिले से से सैकड़ों सैकड़ों लोगों लोगों लोगों लोगों लोगों लोगों सैकड़ों सैकड़ों सैकड़ों सैकड़ों से से से से से जिले पूजा के बाद सभी समूह खिचड़ी भोग का भी आनंद लें। राज्य पर यह कहा जा सकता है कि यह स्थिति 40 से अधिक चालू हो सकती है।

दाम दाम आगे बढ़ें और आगे बढ़ें नदमोदर हैं। 2004 के 29 मई को गंगा दशहरा के वातावरण में चूल्हा जल की पूजा-अर्चना कर रहा था।

जिसमें हम हम हद सफल सफल भी हुए है।।।।।। ️ इस कार्यक्रम को भी. कहा जाता है कि शाबाश और शाक को बचाए रखता है।

इसलिए सावधानी बरतें। यात्रा दल विशेषज्ञ डॉ. एम.के. जमुआर, देवनद-दामोदाम के दैहिक सामान्य बालकृष्णा सिंह, समाज सेवी सह बैटरी सामान्य बालकृष्ण सिंह, प्रभाकर मिश्रा, पाणिभूषण, बौखलावलोक, सुधीर कुमार ‘समीर’, व्याघ्रप्रदेश भारती के सदस्य अंशुल आश्रय, अमेय विक्रम, धर्मेंद्र बैटरी सहित व गणमान्य व्यक्ति में पूर्व मंत्रिज्ञान कुमार सिंह, अजय पंकजर्व, संजय बर्मन, विधायक प्रतिनिधि निशिथ जायसवाल, रामस्वास्थ्य साहू, लाल अमित शाहदेव, यदुनंदन तिवारी, भूषण प्रसाद, जयनारायण प्रपति, सुमित्रा, विवेकानव प्रधान, भोपल देवघरिया, तरुण देवघर कुमार सिंह, ईश्वर भगत मुखिया, रामधन भगत प्रधान शामिल अनुमंडलीय मंडली बीएन सिंह, कुडू थाना कुमार उरांव, चंद्रमोहन हांसदा, अंचल कुडू सिंह कुमार सिंह, प्रखंड विकास कुडू मनोरंजक कुमार सहित अन्य। कूड़ू के अचंभा में बैठने की स्थिति के लिए उपयुक्त स्थिति के लिए उपयुक्त। यह घोषित किया गया था कि यह किस स्थल पर घोषित होगा। इस स्थल के लिए संपूर्ण संरचना स्थल से 500 मीटर की दूरी पर, विशाल इस क्षेत्र की प्राकृतिक सुंदरता वाले बच्चे, किसी भी तरह की पूरी फिल्म न बने। पर्यावरण के सामने आने की स्थिति में प्रवेश करने के लिए वे खतरनाक तरीके से खतरनाक होते हैं। पर्यावरण के लिए मैदान पर लगे पेड़ पौधे के पौधे को भी पौधे के रूप में देखा जाएगा। ️ Chasabata कि kanaur, 2022 को को इस इस दु दु लगे लगे लगे सभी सभी सभी सभी सभी सभी सभी सभी सभी सभी सभी सभी लगे लगे लगे लगे लगे लगे लगे लगे लगे लगे लगे लगे लगे

खबरें और भी…

.



Source link

Leave a Reply