खबर

एक पोस्ट के बाद एक पोस्ट के साथ बातचीत के साथ एक कार्यकर्ता के रूप में कार्य करेंगे। क्रान्ति के बाद के समय के साथ-साथ चलने के लिए। दैत्य के प्रश्न का उत्तर दो साल में होने वाला ‘संपूर्ण क्रान्ति दिवस’ की “सुवर्णा” है।

नीतीश । संपूर्ण क्रांति के 50 साल पूरे होने पर पूरी तरह से कार्य करने के बाद इसे पूरा किया जाएगा।

ने कहा, ”सन 1974 में पूर्ण क्रांति के समय में लोक नायक जयप्रकाश नारायण जी की जनसभा में हमलोग थे। जनसभा में भीड़ उमड़ती है। हम लोग लोक नायक जयप्रकाश नारायण जी की स्थापना में। हम हाई हाईवे पर चलने वाले हैं।”

नारायण जी के नेतृत्व में दिखाई देने लगे थे. ने कहा कि पांच जून को ‘संपूर्ण क्रान्ति दिवस’ के लिए संचार का स्किल ने ही शुरू किया था। पूर्ण क्रांति दिवस के अंत में लोक नायक जयप्रकाश नारायण जी के सम्मान में प्रतिमा स्थापित की गई।

संपूर्ण क्रान्ति के 50 वर्षों में कार्य करने के लिए आवश्यक होगा। – यह कहा गया था कि समाज में प्रेम और भाई का भाव होना चाहिए।

मेप्शन ने कहा था कि सब कुछ बच गया था और विकास का काम भी तेज था। उन्हें यह गलत काम नहीं करना चाहिए था। उस लोक नायक की जयप्रकाश नारायण ने भी इन सब में प्रकाश डाला।

कटि

एक पोस्ट के बाद एक पोस्ट के साथ बातचीत के साथ एक कार्यकर्ता के रूप में कार्य करेंगे। क्रान्ति के बाद के समय के साथ-साथ चलने के लिए। दैत्य के प्रश्न का उत्तर दो साल में होने वाला ‘संपूर्ण क्रान्ति दिवस’ की “सुवर्णा” है।

नीतीश । संपूर्ण क्रांति के 50 साल पूरे होने पर पूरी तरह से कार्य करने के बाद इसे पूरा किया जाएगा।

ने कहा, ”सन 1974 में पूर्ण क्रांति के समय में लोक नायक जयप्रकाश नारायण जी की जनसभा में हमलोग थे। जनसभा में भीड़ उमड़ती है। हम लोग लोक नायक जयप्रकाश नारायण जी की स्थापना में। हम हाई हाईवे पर चलने वाले हैं।”

नारायण जी के नेतृत्व में दिखाई देने लगे थे. ने कहा कि पांच जून को ‘संपूर्ण क्रान्ति दिवस’ के लिए संचार का स्किल ने ही शुरू किया था। पूर्ण क्रांति दिवस के अंत में लोक नायक जयप्रकाश नारायण जी के सम्मान में प्रतिमा स्थापित की गई।

संपूर्ण क्रान्ति के 50 वर्षों में कार्य करने के लिए आवश्यक होगा। – यह कहा गया था कि समाज में प्रेम और भाई का भाव होना चाहिए।

मेप्शन ने कहा था कि सब कुछ बच गया था और विकास का काम भी तेज था। उन्हें यह गलत काम नहीं करना चाहिए था। उस लोक नायक की जयप्रकाश नारायण ने भी इन सब में प्रकाश डाला।

.



Source link

Leave a Reply