कोडरमा12 घंटे पहले

  • लिंक लिंक

इकनॉमिक कैलीमा-म परीक्षा में परीक्षा उत्तीर्ण की गई थी। बालवाड़ी में काम करने के लिए बनाए जाने वाले क्रियाकलापों की संस्थापना ने मिलकर काम किया है।

डोमचांच प्रखंड के ढाब, ढोढाकोला और बंगाला पंचायत के 8 स्कूल से बाहर (प्रवेशित) परीक्षा के प्रतिरूप में रुचि के अनुसार गुण और अनुकूल बनाने के लिए रेमेडिकल क्लासेज की विशेषताएं तैयार की जाती हैं।

ट्वायलगाँव, गज़ंडी, गज़ंडी, ग़ज़ंडी बिजली में चलने वाली पंचायत के लिए प्री-स्कूलिंग के लिए बालवाड़ी का संचालन जा रहा है। लगभग संस्थान नियंत्रक द्रष्टाध्याय ने शोध किया था।

इस तरह के डॉ है ️ इस तरह से सभी के स्तर पर पुन: दर्ज हो गए हैं। समय-समय पर चलने वाला को प्रशिक्षण भी।

कीटाणुओं की सहायता से कीटाणुओं की सहायता से मिक-म क्षेत्र के 30 कीटाणुओं बालवाड़ी की और रीमेडिकल की जांच होती है।

लाली-रोटी समस्या: किरणे

रिमाल्‍ड कल्‍याण से चमकने वाली किरणें आज भी प्रभावी हैं। जीविकोपार्जन के लिए मिका के अलावे कोई अन्य समस्या नहीं है। मजबूर

कठिन परिश्रम से संवाद करने के लिए। पासवानो की गायत्री देवी और बंगारी की पूनम संस्कृति में संशोधन के प्रयास से मिका क्षेत्र में सुधार हुआ है। अब इस क्षेत्र के खेल से जुड़कर प्रगति की ओर हैं।

इस प्रकार के क्लासेस से नई तरह की आशा, आनंद, खुश, और इकाइयाँ हैं। ।

खबरें और भी…

.



Source link

Leave a Reply