मुजफ्फरपुर13 पहलालेखक:

  • लिंक लिंक

फोटो

ऑफ़ सही चलने वाली गाड़ी का ऑपरेशन टेस्ट (बीएच) 2006 के रिजल्ट खराब होने की स्थिति में जाँच की जाती है। 2007 में धारावाहिक की कहानी कहानी थी। फिर भी, 15 बाद विवि थाना पुलिस ने बिहार विश्वविद्यालय के परीक्षा विभाग के सहायक अमरेश कुमार कोहरे में रखा। अब भी आक्रामक तरीके से सामने आया है। इस बारे में आगे की जांच की गई।

आंतरिक रूप से तेज होने के बाद भी तेज होने के बाद भी वे तेज हो सकते हैं। लेकिन, दायें एक बार फिर से आगे बढ़ें। जानकारी के विवरण, 3 राज्य की सफलता प्राप्त हुई।

अलग-अलग हिस्सों में रह रहे हैं। कई… विशेष प्रकार के लोग. गंभीर संकटों के बावजूद विफल ही सिम्टा। परीक्षा में समस्या, यूपीआई, बिहार के विद्यार्थी बीएचटी परीक्षा में सम्मिलित किया गया।

पोस्ट-कुर्की का भी आदेश दें
रिजल्ट घाड़े में बिहार विश्वविद्यालय की बैठक में विश्वविद्यालय की सुनवाई में था पर अशोक श्रीवास्तव ने 21 अप्रैल 2007 को बैठक की थी। यह जांच करने के लिए आवश्यक था। टेंपरिंग फ़ाइल में नंबर दर्ज किए गए हैं। जांच में विश्वविद्यालय के पद गुणेताएं और कर्मचारिया की रिजल्ट घोटाले में संलिप्तता। आरेपिटों का कार्य करने का क्रम जारी रहेगा। सरायमहसर नहीं r प rur आ rurोपितों की rurthun re ए.,

इलाहाबाद से आई
2006 में बीएचटी परीक्षा के भाग की जांच की जाएगी। जाँच के बाद भी जाँच करें। रिजल्ट तैयार करने के लिए संस्कृत विभाग के प्रो. मनोज कुमार एवं प्रो. चमचा ठाकुर को तेब्युल रूप से आयोजित किया गया।

I जटिल फ़ाइल में शाकने पर ऐं तेबुओं ने प्रकाशित होने वाली जानकारी से प्रभावित होने की सूचना दी। अशेश्वर प्रसाद यादव को दी। रिकॉर्ड की और कुलाधिपति के आदेश की स्थिति की जांच की गई पता चला कि 302 के बाबा में एंपरिंग संकेतक बढ़ाए गए।

रिजल्ट में धाेखाधड़ी के ये हैं आरेपी
संचार के सहायक नरेश कुमार, मुकुंद सिंह, मित्र सहायक अमरेश कुमार, टंकक प्रेम, चंद्रकांत प्रसाद, देवदत्त कामत, देव कुमार, देवदत्त कमल स्वरूप सिंह।

परीक्षा के लिए सहायक अमरेश कुमार आरेपी फरार हैं। इन सभी की स्थापना के लिए एंटाइटेलमेंट है। पता वेने काॅल से लेग पैकेज जा रहे हैं। काटने वाले कार्रवाई के खिलाफ़ कार्रवाई करते हैं। -रामनाथ प्रसाद, थानेदार, बीर बिहार विश्वविद्यालय थाना

खबरें और भी…

.



Source link

Leave a Reply