खाकी: बिहार चैप्टर के मुख्य अभिनेता के साथ अमित लोढ़ा (दाएं)
– फोटो : अमर उजाला

ख़बर सुन

गजब इत्तफाक है! एक तरफ ‘खाकी: द बिहार चैप्टर’ की चर्चा जोरों पर है और दूसरी तरफ यह बिहार के जिस चर्चित आईपीएस अधिकारियों के अनुभव पर आधारित किताब ‘बिहार डायज’ पर आधारित है, वह परेशानी में फंसते ही जा रहे हैं। अब बिहार की स्पेशल सर्विलांस यूनिट (स्पेशल विजिलेंस यूनिट) ने अमित लोढ़ा पर मामला दर्ज किया है। ‘खाकी: द बिहार चैप्टर’ बनाने वाली फ्राइडे स्टोरी टेलर और इसे प्लेटफॉर्म देने वाले ओटीटी फ्लेक्स के साथ सरकारी सेवक लोढ़ा की व्यावसायिक संलिप्तता के सत्यापन के बाद यह मामला दर्ज किया गया है।
तब आज प्रक्षेत्र के पुलिस महानिरीक्षक लोढ़ा थे
सी एक्ट 1988 के विभिन्न धाराओं और भारतीय दंड विधान 120 (बी) और 168 के तहत यह मामले दर्ज किए गए हैं। मगध प्रक्षेत्र के पुलिस महानिरीक्षक लोढ़ा पर भ्रष्टाचार एवं निजी स्वार्थ व लाभ के लिए वित्तीय गतिकता और त्वरित व शुक्रवार स्टोरीटेलर के साथ पेशेवर संलिप्ता की जांच पुलिस मुख्यालय ने भी की थी। जांच के दौरान सही पाए गए आंकड़े एवं सबूतों के आधार पर 07 दिसंबर की तारीख को केस नंबर- 17/2022 दर्ज किया गया है।

विस्तार

गजब इत्तफाक है! एक तरफ ‘खाकी: द बिहार चैप्टर’ की चर्चा जोरों पर है और दूसरी तरफ यह बिहार के जिस चर्चित आईपीएस अधिकारियों के अनुभव पर आधारित किताब ‘बिहार डायज’ पर आधारित है, वह परेशानी में फंसते ही जा रहे हैं। अब बिहार की स्पेशल सर्विलांस यूनिट (स्पेशल विजिलेंस यूनिट) ने अमित लोढ़ा पर मामला दर्ज किया है। ‘खाकी: द बिहार चैप्टर’ बनाने वाली फ्राइडे स्टोरी टेलर और इसे प्लेटफॉर्म देने वाले ओटीटी फ्लेक्स के साथ सरकारी सेवक लोढ़ा की व्यावसायिक संलिप्तता के सत्यापन के बाद यह मामला दर्ज किया गया है।

तब आज प्रक्षेत्र के पुलिस महानिरीक्षक लोढ़ा थे

सी एक्ट 1988 के विभिन्न धाराओं और भारतीय दंड विधान 120 (बी) और 168 के तहत यह मामले दर्ज किए गए हैं। मगध प्रक्षेत्र के पुलिस महानिरीक्षक लोढ़ा पर भ्रष्टाचार एवं निजी स्वार्थ व लाभ के लिए वित्तीय गतिकता और त्वरित व शुक्रवार स्टोरीटेलर के साथ पेशेवर संलिप्ता की जांच पुलिस मुख्यालय ने भी की थी। जांच के दौरान सही पाए गए आंकड़े एवं सबूतों के आधार पर 07 दिसंबर की तारीख को केस नंबर- 17/2022 दर्ज किया गया है।

.



Source link

Leave a Reply