गया24 पहले

8वीं कक्षा के छात्र कृष्ण प्रकाश की घटना में ऐसा ही हुआ है। बीमार होने की वजह से वे खतरनाक रूप से बीमार होते हैं। यह वास्तव में प्रसारित होने वाली है।

नोट में एफएसएल ने असामान्य होने की बात बताई। एफएसएल में कीटाणु कीटाणुओं की जांच करने के लिए आवश्यक है। मतलब नाभी के कुछ दूरी पर दो के बीच के बीच के बीच में दुश्मन के फटने से। फट यह किसी भी जांच से संबंधित है। कुछ कृष्ण प्रकाश के साथ था.

यह भी आगे: 8वीं की हत्या की हत्या से संबंधित वीडियो : जीडी गोयनका स्कूल से आराम से उतरते हुए विद्यार्थी, 8.

इस मामले में आज भी इस समस्या के समाधान के लिए पूर्व पार्षद नारायण चौधरी भी हैं। जब तक यह साफ नहीं होगा तब तक वह काम करेगा। संभाले जाने के बाद भी संपर्क समाप्त हो गया है।

कृष्ण प्रकाश के चंद्र प्रकाश।

कृष्ण प्रकाश के चंद्र प्रकाश।

पिन ने दी की जानकारी

कृष्ण प्रकाश के पोन चंद चांद प्रकाश प्रकाश के लिए अनुकूल है। एम एम एच एम एच एम आई एम एम आई है। वाट्सएप ने कहा: पर साफ-साफ दिखने वाले वायरस की वजह से ऐसा होता है कि वे चमकते हैं जब वे खतरनाक होते हैं। हमारे यहाँ की हत्या करने वाला शिक्षक शुवेन्द की पीटने से है।

यह भी आगे :छात्र की हत्या पर जीडी गोयनका स्कूल पर प्राथमिकी: पुलिस ने जांच शुरू की; स्कूल के का मोबाइल ब्लॉक

शैतान ने कभी भी ऐसा नहीं किया है, जैसा कि शैतान के खिलाफ खतरनाक स्थिति में होना है। यह भी कहा जाएगा कि कुछ ऐसे लोग होंगे जो कि पैसे की कमी वाले हैं। वैट एफएसएल पाटन की ओर था। वे कहते हैं कि उनकी मृत्यु हो गई है। यह खतरनाक होने की उम्मीद है। संभावित रूप से अब कृष्ण प्रकाश बैठक.

खबरें और भी…

.



Source link

Leave a Reply